कभी विदेशों तक दंगल के विजेता रहे योगेश्वर, अब चुनावी दंगल से हो सकते है बाहर

कभी विदेशों तक दंगल के विजेता रहे योगेश्वर, अब उप चुनावी दंगल से हो सकते है बाहर
भाजपा व जजपा गठबंधन के कारण उप चुनाव में नहीं दिख रहे टिकट मिलने के आसार
-पिछली बार बरोदा चुनाव में ठोकी थी भाजपा की टिकट पर ताल
गोहाना राजेंद्र कुमार 
वर्ष 2019 अक्टूबर माह में हुए विधानसभा के चुनाव में भाजपा से बरोदा हलके से प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े पहलवान योगेश्वर दत्त कभी विदेशों तक दंगल के विजेता रहे थे, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। उन्हें उस समय चुनाव में उन्हें कांग्रेस से प्रत्याशी स्व. श्री कृष्ण हुड्डा से हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन भाजपा व जजपा गठबंधन के कारण इस बार योगेश्वर दत्त को टिकट मिलने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं।
बता दे कि पूर्व में रही कांग्रेस सरकार ने पहलवान योगेश्वर दत्त को हरियाणा पुलिस में डीएसपी (डिप्टी सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस) के पद पर तैनात किया था। पिछले वर्ष भाजपा की बरोदा हलके की सीट पर चुनावी दंगल में उतरने के कारण योगेश्वर दत्त ने अपने डीएसपी पद से इस्तीफा दे दिया था। पहलवान योगेश्वर दत्त का केरियर कुछ इस तरह से रहा था। उन्होंने साउथ कोरिया के इंचियोन में चल रहे 17वें एशियाड में इतिहास रच दिया।  लंदन 2012 ओलंपिक में कांस्य पदक के अलावा वल्र्ड कुश्ती चैंपियनशिप-2006 में 60 किलो फ्रीस्टाइल में वो पांचवें स्थान पर रहे थे। 2003 कॉमनवेल्थ कुश्ती चैंपियनशिप में उन्होंने गोल्ड मेडल जीता। दोहा में हुए 15वें एशियन गेम्स में कांस्य पदक जीता था ओर कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 में गोल्ड मेडल प्राप्त कर देश का नाम रोशन किया था, लेकिन पिछले वर्ष चुनावी दंगल उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार गठबंधन होने के कारण उन्हें टिकट नहीं मिलने के आसार साफ दिखाई दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *