किसान आंदोलन में आई युवती से रेप का आरोप, आरोपियों को पकड़ने के लिए SIT का गठन

किसान आंदोलन में आई युवती से रेप का आरोप, आरोपियों को पकड़ने के लिए SIT का गठन

किसान आंदोलन में आई युवती से रेप का आरोप, आरोपियों को पकड़ने के लिए SIT का गठन

बहादुरगढ़। (ब्यूरो) किसान आंदोलन में पश्चिम बंगाल से आई युवती के साथ बलात्कार का मामला सामने आया है। इस मामले में झज्जर पुलिस ने FIR तो दर्ज कर ली लेकिन अभी तक पुलिस के हाथ खाली हैं। फिलहाल पुलिस के आला अधिकारी इस मामले में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

बता दें कि पीड़ित युवती के पिता की शिकायत पर शहर थाना पुलिस ने बीते दिनों एफआईआर दर्ज की थी। पीड़िता की 30 अप्रैल को कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी। मौत से करीब चार दिन पहले पीड़िता को शिवम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।




जानकारी के मुताबिक टिकरी बॉर्डर पर किसान सोशल आर्मी चलाने वाले 6 युवकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। बताया जा रहा है कि बलात्कार के आरोपी टिकरी बॉर्डर पर किसान आंदोलन में पूरे सक्रिय रहते थे। पीड़िता 11 अप्रैल को आरोपियों के साथ पश्चिम बंगाल से दिल्ली से सटे टिकरी बॉर्डर पहुंची थी।


इस मामले को लेकर किसान नेता लगातार पल्ला झाड़ रहे हैं। लेकिन पुलिस ने मामले की जांच के लिए डीएसपी की अगुवाई में तीन इंस्पेक्टर और साइबर सेल को मिलाकर एसआईटी बनाई है। बहरहाल देखना होगा कि कब तक आरोपियों की गिरफ्तारी हो पाती है।

इस मामले पर किसान नेता गुरनाम चढूनी ने बताया कि संयुक्त मोर्चा के कहने पर ही पीड़िता के पिता ने एफआईआर दर्ज करवाई है।  उन्होंने बताया कि पीड़िता का पिता FIR ही दर्ज नहीं करवा रहा था। पीड़िता के पिता को संयुक्त किसान मोर्चे ने ही दोषियों पर एफआईआर के लिए कहा था।  वहीं चढूनी ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा ने जानकारी मिलते ही टिकरी बॉर्डर कमेटी को दोषियों पर कार्रवाई के लिए कह दिया था। जिसके बाद उनके तम्बू तक उखाड़ दिए थे।