मिर्ची पाउडर और असलों से लैस आये थे पुलिस हिरासत से हत्यारे को छुड़वाने खुद भी पकड़े गए

मिर्ची पाउडर और असलों से लैस आये थे पुलिस हिरासत से हत्यारे को छुड़वाने खुद भी पकड़े गए
*सी.आई.ए स्टाफ की एक ओर कामयाबी, पुलिस *सी.आई.ए स्टाफ की एक ओर कामयाबी, पुलिस हिरासत से अपने साथी को छुड़ाने आए 4 अन्य आरोपियों को भी किया काबू।*
दीपक कुमार पत्रकार ब्यूरो
*अब तक 7 पिस्तौल, 13 जिंदा कारतूस सहित कुल 7 अपराधी पुलिस हिरासत में*
बता दे कि 23 सितंबर 2021 को जीन्द पुलिस के सीआईए स्टाफ की टीम ने एक बडी वारदात को होने से टाला था। जेल में बन्द एक अपराधी को छुड़ाने उसके अन्य साथी हथियारों से लैस होकर आये थे। जिसकी सूचना सीआईए स्टाफ जीन्द को मिली जिसने बिना समय गवाये मौके पर पहुंच कर आरोपियों को काबू किया। दो आरोपियों को 2 अवैध पिस्तोल सहित मौके से काबू किया व एक अन्य को उसी दिन काबू किया था।
 सीआईए को मिली गुप्त सूचना के आधार पर निरीक्षक अनूप सिंह के नेतृत्व में उनकी टीम ने अपराधियों के मंसूबों पर पानी फेरते हुए एक आरोपी को छुड़ाने आए अन्य साथियों को एएसआई सुरेन्द्र सिहं को मिली गुप्त सूचना के आधार पर 2 को मौके से काबू किया। विनय वासी राजपुरा भैण जो हत्या के आरोप में जिला जेल जीन्द में बन्द था जो पुलिस की गार्द कस्टडी में लेकर सरकारी हस्पताल जीन्द में दवाई दिलवाने के लिए गए हुए थे जिसे छुडवानें के लिए विनय के साथी प्रदीप वासी सिसाय, धर्मेद्र उर्फ जौन्दा वासी फरमाणा बादशाहपुर, अंकित वासी सिसाय, राहुल उर्फ बाडी वासी ब्राहम्णवास, पवित्र वासी बीबीपुर व बिटटू अपनी गाडी नम्बर स्वीफट डिजायर व कुछ अन्य साथी मोटर साईकिल पर सवार होकर सरकारी हस्पताल के पास रैकि कर रहे थे। जैसे ही विनय सरकारी हस्पताल में आया उसके साथी पुलिस की आंखों में मिर्ची पाउडर व असलों से हमला करके अपने साथी को छुडवाने की फिराक में थे जैसे ही पुलिस की गार्द विनय को लेकर सरकारी हस्पताल में दाखिल हुई तो गाडी में बैठे तीन-चार लडके विनय को छुडवाने लिए आगे बढे तभी पुलिस ने उन्हे पकडने की कोशिश की तो गाडी में बैठे 2/3 लडके गाडी से उतर कर भागने लगे जिन्हे सीआईए की टीम ने पकडने की कोशिश की उनमें से एक लडके ने पिस्तोल से पुलिस पार्टी पर गोली चला दी गोली एएसआई अशोक के पास से निकल गई जिससे वह बाल-बाल बच गया। इस दौरान टीम ने मौके से 2 अभियुक्तों को अवैध असला सहित काबू किया था।
*आज एएसपी जींद नितीश अग्रवाल* ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि सीआईए स्टाफ जींद की टीम द्वारा इस मामले में सराहनीय कार्य करते हुए अन्य चार आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिनमें बिट्टू वासी जमालपुर, पवित्र वासी हांसी, अंकित वासी सिसाय, व नवीन शामिल हैं। बिट्टू, पवित्र व अंकित को हिसार से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि नवीन के खिलाफ अन्य सात मुकदमे लूट व शस्त्र अधिनियम के तहत दर्ज हैं, बिट्टू के खिलाफ 11 मुकदमे भारतीय दंड संहिता की धारा 307 व शस्त्र अधिनियम के तहत, अंकित वे पवित्र के खिलाफ 2–2 लड़ाई झगड़े के मामले दर्ज है। जिन्होंने विनय जिसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 307 के तहत 9 मामले दर्ज हैं उसे छुड़ाने की कोशिश की थी जिनसे पूछताछ करने पर 7 पिस्तौल व 13 जिंदा रौंद बरामद किए जा चुके हैं। किया काबू।*
*अब तक 7 पिस्तौल, 13 जिंदा कारतूस सहित कुल 7 अपराधी पुलिस हिरासत में*
बता दे कि 23 सितंबर 2021 को जीन्द पुलिस के सीआईए स्टाफ की टीम ने एक बडी वारदात को होने से टाला था। जेल में बन्द एक अपराधी को छुड़ाने उसके अन्य साथी हथियारों से लैस होकर आये थे। जिसकी सूचना सीआईए स्टाफ जीन्द को मिली जिसने बिना समय गवाये मौके पर पहुंच कर आरोपियों को काबू किया। दो आरोपियों को 2 अवैध पिस्तोल सहित मौके से काबू किया व एक अन्य को उसी दिन काबू किया था।
 सीआईए को मिली गुप्त सूचना के आधार पर निरीक्षक अनूप सिंह के नेतृत्व में उनकी टीम ने अपराधियों के मंसूबों पर पानी फेरते हुए एक आरोपी को छुड़ाने आए अन्य साथियों को एएसआई सुरेन्द्र सिहं को मिली गुप्त सूचना के आधार पर 2 को मौके से काबू किया। विनय वासी राजपुरा भैण जो हत्या के आरोप में जिला जेल जीन्द में बन्द था जो पुलिस की गार्द कस्टडी में लेकर सरकारी हस्पताल जीन्द में दवाई दिलवाने के लिए गए हुए थे जिसे छुडवानें के लिए विनय के साथी प्रदीप वासी सिसाय, धर्मेद्र उर्फ जौन्दा वासी फरमाणा बादशाहपुर, अंकित वासी सिसाय, राहुल उर्फ बाडी वासी ब्राहम्णवास, पवित्र वासी बीबीपुर व बिटटू अपनी गाडी नम्बर स्वीफट डिजायर व कुछ अन्य साथी मोटर साईकिल पर सवार होकर सरकारी हस्पताल के पास रैकि कर रहे थे। जैसे ही विनय सरकारी हस्पताल में आया उसके साथी पुलिस की आंखों में मिर्ची पाउडर व असलों से हमला करके अपने साथी को छुडवाने की फिराक में थे जैसे ही पुलिस की गार्द विनय को लेकर सरकारी हस्पताल में दाखिल हुई तो गाडी में बैठे तीन-चार लडके विनय को छुडवाने लिए आगे बढे तभी पुलिस ने उन्हे पकडने की कोशिश की तो गाडी में बैठे 2/3 लडके गाडी से उतर कर भागने लगे जिन्हे सीआईए की टीम ने पकडने की कोशिश की उनमें से एक लडके ने पिस्तोल से पुलिस पार्टी पर गोली चला दी गोली एएसआई अशोक के पास से निकल गई जिससे वह बाल-बाल बच गया। इस दौरान टीम ने मौके से 2 अभियुक्तों को अवैध असला सहित काबू किया था।
*आज एएसपी जींद नितीश अग्रवाल* ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि सीआईए स्टाफ जींद की टीम द्वारा इस मामले में सराहनीय कार्य करते हुए अन्य चार आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिनमें बिट्टू वासी जमालपुर, पवित्र वासी हांसी, अंकित वासी सिसाय, व नवीन शामिल हैं। बिट्टू, पवित्र व अंकित को हिसार से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि नवीन के खिलाफ अन्य सात मुकदमे लूट व शस्त्र अधिनियम के तहत दर्ज हैं, बिट्टू के खिलाफ 11 मुकदमे भारतीय दंड संहिता की धारा 307 व शस्त्र अधिनियम के तहत, अंकित वे पवित्र के खिलाफ 2–2 लड़ाई झगड़े के मामले दर्ज है। जिन्होंने विनय जिसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 307 के तहत 9 मामले दर्ज हैं उसे छुड़ाने की कोशिश की थी जिनसे पूछताछ करने पर 7 पिस्तौल व 13 जिंदा रौंद बरामद किए जा चुके हैं।