Big Breaking: HSSC ग्रुप डी का एग्जाम लीक की आशंका, एक रात पहले करवाते थे तैयारी

  1. Home
  2. Breaking news

Big Breaking: HSSC ग्रुप डी का एग्जाम लीक की आशंका, एक रात पहले करवाते थे तैयारी

ने्ेने्न


Big Breaking: हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) ग्रुप-डी के कामन एलिजिबिलिटी टेस्ट (CET) का 21 और 22 अक्टूबर का पेपर लीक हो गया था। इसका पता तब चला जब गिरोह के सदस्य परीक्षार्थियों को दूसरी पाली में परीक्षा दिलाने के लिए दिल्ली से हरियाणा ले जाने वाले थे।

पुलिस ने रोहतक के सांपला निवासी कपिल और चिड़ी गांव निवासी वेदपाल को गिरफ्तार कर लिया है। हरियाणा पुलिस के एक कांस्टेबल रोबिन की संलिप्तता सामने आ रही है।

पुलिस ने पकड़े गए से परीक्षार्थियों के बैग, कराने के लिए ली गई आरोपितों परीक्षा पास अग्रिम राशि के चेक, मोबाइल और अन्य सामान बरामद किया गया है, इनके पास से प्रश्नपत्र नहीं मिला है। आशंका है कि इस गिरोह में कम से कम 10 सदस्य शमिल हैं।
 

दिल्ली की रणहोला थाना पुलिस को 21 अक्टूबर को सूचना मिली कि हरियाणा में कराई जा रही संईटी में फर्जीवाड़ा कराया जा रहा है।

पुलिस की एक टॉम बापरौला गांव के परशुराम पार्क के नजदीक सफेदा पार्क के पास पहुंची तो कार में बैठे दो लोगों के पास प्रवेशपत्र और अन्य कागजात थे।  उनके आसपास करीब 12 युवक खड़े थे, जो पुलिस को देखकर भागने लगे। पुलिसकर्मियों ने कार में बैठे कपिल और वेदपाल


 

पुलिस सूत्री के के अनुसार, अनुसार, पेपर लीक कराकर आरोपित जिन परीक्षार्थियों को देते थे, उन्हें एक रात पहले अपने पास बुला लेते थे। साल्वर हर सवाल की तैयारी कराता था।

इसके बाद गिरोह के अन्य लोग अलग-अलग गाडी में परीक्षार्थियों को सीधा परीक्षा केंद्र पर छोड़ते थे। इससे पहले कुछ अग्रिम राशि ले ली जाती थी, इसके साथ ही उनके दस्तावेज, मोबाइल फोन और अन्य सामान अपने पास रख लेते थे।

पेपर देकर बाहर आने के बाद परीक्षार्थियों से बाकी राशि ले जाती थी।


 

आरोपितों के पास से जिन परीक्षार्थियों के प्रवेशपत्र बरामद हुए है पुलिस उनके खिलाफ में प्राथमिकी दर्ज कर सकती है। आरोपितों से मिले परीक्षार्थियों के मोबाइल फोन की जाच में की जा रही है।

जिस हुंडई और कार को रणहोला पुलिस ने पकड़ा है, उसे आरोपितों ने बीते पाच सितंबर को ही रोहतक के सांपला इलाके से खरीदा था। पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इस अत्ताल में आरोपितों ने और कितनी गाड़िया | तलाशे में कार से कई पिट्दू बैग, प्रवेशपत्र और मोबाइल फोन बरामद हुए। पूछताछ में दोनों आरोपितों ने बताया कि अपने साथियों के साथ मिल सरकारी प्रतियोग परीक्षाओं के पेपर लीक कराते हैं।


 

दूसरी पाली में परीक्षा देने वाले 12 परोक्षार्थी को लेने के लिए पार्क के पास खड़े थे। कार से बरामद समान परीक्षार्थियों का है।

परीक्षा के बाद उन्हें सोनीपत लौटना था। पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर वे है, लेकिन कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

ग्रुप-डी के 13,536 पदों के लिए 21 और 22 अक्टूबर को आयोजित परीक्षा में 13 लाख से ज्यादा परीक्षार्थियों ने पंजीकरण कराया था।  इनमें से अभ्यर्थियों ने प्रवेशपत्र अाउनलोड किए थे और करीब साढ़े आठ लाख से ज्यादा परीक्षा देने पहुंचे

Around The Web

Uttar Pradesh

National