हरा भरा होगा हरियाणा

हरा भरा होगा हरियाणा
REPORT : HARISH KOHLI, YAMUNANAGAR
हरा भरा होगा हरियाणा । हरियाली को बढ़ाने के लिए हाइवे से लेकर गांवों की ज़मीनों पर लगाये जा रहे है पौधे। वन मंत्री कवँरपाल गुर्जर ने यमुनानगर जिले में चल रहे वन विभाग के सभी प्रोजेक्ट्स का निरीक्षण किया और जिले और प्रदेश में क्या क्या योजनाएं चल रही है और क्या लक्ष्य रखा गया है उसकी जानकारी दी। वन मंत्री कवँरपाल गुर्जर ने बताया कि जहाँ हरियाणा में 3 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाए जाएंगे। वही यमुनानगर जिले के 176 गांवों में हरियाली बढ़ाने के लिए लगभग 17 लाख से ज्यादा पौधे लगाए जाएंगे। 

हरियाणा के वन मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने जिला यमुनानगर में वन विभाग के चल रही विभिन्न प्रोजेक्टों का औचक निरीक्षण किया। उनके साथ डीएफओ सूरजभान भी रहे। वन मंत्री कंवरपाल ने सभी जगहों का निरीक्षण करते हुए संतोष जाहिर किया। सबसे पहले शिक्षा मंत्री एनएच 344 हाइवें पर पहुंच कर उन्होंने पौधारोपण का जायजा लिया ,  इसके बाद वन मंत्री छछरौली, डारपुर, जाटोंवाला क्षेत्रों में पहुंचे और कार्यो की प्रगति का जायजा लिया। वन मंत्री कंवरपाल अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को देखने गांव शहजादवाला पहुंचे व फलदार पौधों के बाग की प्रगति देखकर खुश हुए और कहा कि मात्र 9 महीनों में जो पौधे चल रहे हैं उनकी प्रोग्रेस 90 प्रतिशत से ऊपर है और यह एक बहुत बड़ी सफलता की निशानी है।
कवँरपाल गुर्जर वन मंत्री हरियाणा सरकार 
उन्होंने बताया कि गांव शहजादवाला की पंचायती जमीन  37.5 एकड़ भूमि पर फलदार पौधे लगाए है। ये हरियाणा का पहला ऐसा प्रोजेक्ट है जहाँ आम का इतना बढ़ा बाग विकसित किया जाएगा । इससे पंचायत की आमदनी भी बढ़ेगी और हरियाली व पर्यावरण भी बढ़ेगा । इसके बाद वन मंत्री कंवरपाल अपने पैतृक गांव बहादुरपुर पहुंचे । वन विभाग द्वारा चलाए जा रहे प्रोजेक्ट को देखा और वहां पर संतुष्टि जाहिर की और कहा कि इसके अंतर्गत वन क्षेत्र को बढ़ाया जाएगा ताकि यहां पर और ज्यादा हरियाली हो। उन्होंने कहा कि पिछले साल हमने 1100 गांव में पौधे लगाने का लक्ष्य रखा था तो वही इस साल 2200 गांव में पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है । उन्होंने बताया कि इस बार हरियाणा में 3 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाए जाएंगे। 

कवँरपाल गुर्जर वन मंत्री हरियाणा सरकार
हरियाणा हरा भरा हो और चारो तरफ हरियाली हो इसको लेकर वन एवं पर्यटन मंत्री काफी लंबे समय से काम कर रहे है । पंचायत की बंजर पड़ी जमीन पर 37.5 एकड़ का बाग जब पूरी तरह से तैयार होगा तो इससे पंचायत व पर्यावरण को बहुत लाभ होगा ।