तेलंगाना के कांग्रेसी मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को "बड़े भाई" बताया और कहा कि वे तेलंगाना के विकास के लिए "गुजरात मॉडल" अपनाने पर विचार करेंगे।

  1. Home
  2. HARYANA

तेलंगाना के कांग्रेसी मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को "बड़े भाई" बताया और कहा कि वे तेलंगाना के विकास के लिए "गुजरात मॉडल" अपनाने पर विचार करेंगे।

bjp-likely-to-announce-first-list-of-candidates-for-2024-lok-sabha-election


तेलंगाना के कांग्रेसी मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को "बड़े भाई" बताया और कहा कि वे तेलंगाना के विकास के लिए "गुजरात मॉडल" अपनाने पर विचार करेंगे।

यहां कुछ मुख्य बातें हैं:

  • मुख्यमंत्री रेड्डी ने कहा: "प्रधानमंत्री मोदी हमारे बड़े भाई हैं और हमें उनका सम्मान करना चाहिए। अगर वे हमें सहयोग करते हैं तो हम तेलंगाना को विकसित कर सकते हैं।"
  • उन्होंने कहा: "गुजरात मॉडल" ने गुजरात को एक विकसित राज्य बना दिया है और हम तेलंगाना में भी इसका उपयोग कर सकते हैं।
  • उन्होंने यह भी कहा: "हम केंद्र सरकार के साथ टकराव नहीं चाहते हैं, बल्कि सहयोग चाहते हैं।"

यह टिप्पणी महत्वपूर्ण है क्योंकि:

  • यह कांग्रेस और भाजपा के बीच बढ़ते तालमेल को दर्शाता है।
  • यह दर्शाता है कि तेलंगाना सरकार विकास के लिए नए विचारों के लिए खुली है।
  • यह गुजरात मॉडल की सफलता को भी दर्शाता है।

हालांकि, कुछ लोगों का तर्क है:

  • गुजरात मॉडल सभी राज्यों के लिए उपयुक्त नहीं है।
  • यह मॉडल सामाजिक न्याय और समानता पर ध्यान नहीं देता है।
  • यह मॉडल पर्यावरण के लिए हानिकारक है।

यह देखना बाकी है कि तेलंगाना सरकार वास्तव में "गुजरात मॉडल" को अपनाती है या नहीं, और यदि हाँ, तो इसका राज्य पर क्या प्रभाव पड़ता है।

तेलंगाना के कांग्रेसी मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को "बड़े भाई" बताया और कहा कि वे तेलंगाना के विकास के लिए "गुजरात मॉडल" अपनाने पर विचार करेंगे।

यहां कुछ मुख्य बातें हैं:

  • मुख्यमंत्री रेड्डी ने कहा: "प्रधानमंत्री मोदी हमारे बड़े भाई हैं और हमें उनका सम्मान करना चाहिए। अगर वे हमें सहयोग करते हैं तो हम तेलंगाना को विकसित कर सकते हैं।"
  • उन्होंने कहा: "गुजरात मॉडल" ने गुजरात को एक विकसित राज्य बना दिया है और हम तेलंगाना में भी इसका उपयोग कर सकते हैं।
  • उन्होंने यह भी कहा: "हम केंद्र सरकार के साथ टकराव नहीं चाहते हैं, बल्कि सहयोग चाहते हैं।"

यह टिप्पणी महत्वपूर्ण है क्योंकि:

  • यह कांग्रेस और भाजपा के बीच बढ़ते तालमेल को दर्शाता है।
  • यह दर्शाता है कि तेलंगाना सरकार विकास के लिए नए विचारों के लिए खुली है।
  • यह गुजरात मॉडल की सफलता को भी दर्शाता है।

हालांकि, कुछ लोगों का तर्क है:

  • गुजरात मॉडल सभी राज्यों के लिए उपयुक्त नहीं है।
  • यह मॉडल सामाजिक न्याय और समानता पर ध्यान नहीं देता है।
  • यह मॉडल पर्यावरण के लिए हानिकारक है।

यह देखना बाकी है कि तेलंगाना सरकार वास्तव में "गुजरात मॉडल" को अपनाती है या नहीं, और यदि हाँ, तो इसका राज्य पर क्या प्रभाव पड़ता है।

Around The Web

Uttar Pradesh

National