Haryana Weather: हरियाणा के इस जिले में जमीं बर्फ, ठंड ने तोड़ा 6 साल का रिकॉर्ड

  1. Home
  2. HARYANA

Haryana Weather: हरियाणा के इस जिले में जमीं बर्फ, ठंड ने तोड़ा 6 साल का रिकॉर्ड

हरियाणा के इस जिले में जमीं बर्फ


 Haryana Weather: हरियाणा में कड़ाके की ठंड का सितम जारी है। सूबे में शुक्रवार की रात रेवाड़ी में सबसे ठंडी रही। यहां न्यूनतम तापमान 1.8 डिग्री सेल्सियस रहा। जबकि महेंद्रगढ़ में 2.5 और गुरुग्राम में 2.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

हालांकि शनिवार की सुबह कोहरे से कुछ राहत मिली है। शहरी क्षेत्र के बाहर सड़कों पर सुबह के समय ही हल्का कोहरा नजर आया। पिछले दो दिनों से खासकर दक्षिणी हरियाणा के जिलों में अच्छी धूप खिल रही है। बता दें कि प्रदेश के कई जिलों में तापमान में जमाव बिंदु की तरफ बढ़ रहा है। एक दिन पहले न्यूनतम तापमान 2.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। 

शनिवार सुबह मौसम विभाग की तरफ से तापमान को लेकर जानकारी दी गई, जिसमें रेवाड़ी की रात सबसे ठंडी रही।

24 घंटे के अंदर ही तापमान में आधा डिग्री से ज्यादा की गिरावट हुई। दो दिन से कुछ जगह पाला भी पड़ रहा है। जिसकी वजह से बाहर खड़ी होने वाली कारों की छत और अन्य जगह पर बर्फ की मामूली परत भी दिखाई दे रही है। रेवाड़ी के गांव खिजुरी से भी एक इसी तरह का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें ओस की बूंदों के कारण कार की छत पर जमीं बर्फ की परत उतारता हुआ युवक नजर आया। बता दें कि इस बार सर्दी कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ रही है। 

रेवाड़ी और आसपास के जिलों महेंद्रगढ़, नारनौल, गुरुग्राम में नए साल की शुरुआत के साथ ही कड़ाके की ठंड का प्रकोप बना हुआ है। एक सप्ताह तक तो इन जिलों में सूर्य देव के ही दर्शन नहीं हुए। हालांकि 10 जनवरी के बाद से लगातार मौसम साफ हो रहा है। पिछले दो दिनों से सुबह के समय जबरदस्त कोहरा तो दिन में अच्छी धूप खिल रही है। शनिवार को लोगों को कोहरे से भी राहत मिल गई। 

लेकिन तापमान में गिरावट होने से कड़ाके की सर्दी का सितम जारी है। पिछले 6 साल की बात करें तो रेवाड़ी जिले में जनवरी माह में न्यूनतम तापमान सबसे नीचे शुक्रवार को दर्ज किया गया। शनिवार को भले ही कोहरे से राहत मिल गई। लेकिन मौसम विभाग ने 13 से 16 जनवरी तक के लिए घनी धुंध, शीतलहर चलने और कोल्ड-डे का अलर्ट जारी किया है। 

मौसम विभाग ने किसानों के लिए गाइड लाइन जारी की है। सरसों व सब्जी की फसल करने वाले किसानों को सलाह दी गई है कि वह फसल की हल्की सिंचाई करते रहें। हालांकि पाले से गेहूं की फसल को लाभ है। खेत के चारों ओर धुंआ करने की भी विशेषज्ञों ने सलाह दी है।

Around The Web

Uttar Pradesh

National