खिलाड़ियों का पदक लौटाना और साक्षी मलिक का कुश्ती से ही सन्यास लेना, देश का दुर्भाग्य : डॉ. सुशील गुप्ता

  1. Home
  2. HARYANA

खिलाड़ियों का पदक लौटाना और साक्षी मलिक का कुश्ती से ही सन्यास लेना, देश का दुर्भाग्य : डॉ. सुशील गुप्ता

sushil gupta

k9media.live


आम आदमी पार्टी की प्रदेशस्तरीय बदलाव यात्रा के नौवें दिन आप नेताओं ने हरियाणा में खेल और खिलाड़ियों की दुर्दशा को लेकर खट्टर सरकार को घेरा। नौवें दिन प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद डॉ. सुशील गुप्ता गोहाना में रहे। प्रदेश प्रचार समिति के अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर लोहारु, वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष अनुराग ढांडा कलायत और प्रदेश उपाध्यक्ष चित्रा सरवारा करनाल में रहीं। हरियाणा में भाजपा सरकार खिलाड़ियों के भविष्य को खराब करने का काम कर रही है। खिलाड़ियों को उचित सुविधाएं मुहैया कराने में नाकाम रही है।

डॉ. सुशील गुप्ता ने कहा कि हरियाणा और देश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ी अपने राष्ट्रीय पदक वापस कर रहे हैं। साक्षी मलिक ने कुश्ती से ही सन्यास ले लिया। इससे पहले, न्याय के लिए जंतर मंतर पर बैठना पड़ा। इससे बड़ा दुर्भाग्य देश में क्या हो सकता है। केंद्र सरकार न्याय और जांच का वादा करके मुकर गई। बृज भूषण शरण सिंह के खास व्यक्ति को कुश्ती संघ की कमान दी गई। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर सबसे ज्यादा मेडल हरियाणा के खिलाड़ी ही लाते हैं, लेकिन खिलाड़ियों को न्याय दिलाने के लिए खट्टर सरकार और केंद्र सरकार ने कोई आवाज नहीं उठाई। उन्होंने कहा कि एक खिलाड़ी की मेहनत में उसके पूरे परिवार का योगदान होता है। जब खिलाड़ी मेडल लाते हैं तो सरकार घोषणा तो कर देती है, लेकिन उनको पूरा करवाने के लिए खिलाड़ियों को, उनके परिवारों को सालों लग जाते हैं। 

डॉ. अशोक तंवर ने कहा कि सरकार घोषणा कर देती है कि ओलंपिक पदक विजताओं के गांव में स्टेडियम बनाएंगे, लेकिन सालों तक नींव की ईंट भी नहीं रखी जाती। सरकार की सारी घोषणाएं हवा हवाई हो जाती हैं। इस तरह से खिलाड़ियों को राजनीति का सामना करना पड़ता हैं जूनियर कोच से यौन शोषण के आरोपी मंत्री संदीप सिंह का मामला भी सबके सामने है। मुख्यमंत्री खट्टर खिलाड़ियों के मामले में पहले भी चुप थे, अब भी उन्होंने चुप्पी साध रखी है। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों के लिए कोई ठोस नीति खट्टर सरकार नहीं लेकर आई है। हरियाणा के एक भी इंटरनेशन स्टेडियम नहीं बना है। 

अनुराग ढांडा ने कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार देश की पहली अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी बनाई गई है। इसमें खिलाड़ियों को ओलंपिक स्पोर्ट्स की प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाएगी। हरियाणा के युवा भी बहुत प्रतिभाशाली है, लेकिन सरकार अपने खिलाड़ियों के लिए जमीनी स्तर पर कुछ भी नहीं कर रही है। वहीं पंजाब सरकार ने स्पोर्ट्स इन्फ्रास्ट्रक्चर पॉलिसी बनाई है। जिसके तहत विलेज क्लस्टर, जिला और प्रदेश स्तर पर सरकार स्पोर्ट्स इंफ्रास्ट्रक्चर बना रही है। पंजाब में बेसिक ट्रेनिंग पर फोकस किया जा रहा है। इसके तहत गांव में कोच और खेल एक्सपर्ट को लगाया जा रहा है। स्कूल स्तर से ही बच्चों की प्रोफेशनल ट्रेनिंग और फिटनेस पर फोकस किया जा रहा है। वहीं पंजाब सरकार की खेल पॉलिसी के अनुसार खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी दी भी जा रही है।

वहीं, चित्रा सरवारा ने कहा कि हरियाणा में भाजपा सरकार ने साबित कर दिया कि हरियाणा में महिला खिलाड़ी के भविष्य और अस्मता की कोई गारंटी नहीं है। महिला जूनियर कोच ने भाजपा के मंत्री पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। लेकिन आज तक वो न्याय के लिए भटक रही है। इसके अलावा हरियाणा का हर वर्ग हड़ताल पर है। आम आदमी पार्टी इस हरियाणा को बदलने निकली है।  उन्होंने कहा कि जब देश की नई संसद का उद्घाटन हो रहा था तब देश और हरियाणा की बेटियों को तिरंगे के साथ कुचला जा रहा था।

Around The Web

Uttar Pradesh

National