गुजरात के CM बदले जाने पर 'ओपी चौटाला' के फिर बिगड़े बोल, बोले - खट्टर को भी बदल दें तो क्लेश कट जाए

गुजरात के CM बदले जाने पर 'ओपी चौटाला' के फिर बिगड़े बोल, बोले - खट्टर को भी बदल दें तो क्लेश कट जाए

गुजरात के CM बदले जाने पर 'ओपी चौटाला' के फिर बिगड़े बोल, बोले - खट्टर को भी बदल दें तो क्लेश कट जाए

भिवानी। हरियाणा के भिवानी शहर में पहुंचे पूर्व सीएम एवं इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। उन्होंने पहले सीएम खट्टर को 'अवारा पशु' कहा था और अब अपनी सीमा लांघते हुए कहा कि भाजपा गुजरात के सीएम की तरह हरियाणा के खट्टर को भी बदल दे तो क्लेश कट जाए, पर भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व का तो दिवालिया पिट चुका है।  साथ ही उन्होंने पूर्व सीएम की सफाई को झूठ बताया। चौटाला ने कहा कि इनेलो सरकार बनने पर हर युवा को सरकारी नौकरी देंगे, चाहे मुझे फांसी हो जाए। 

बता दें की इनेलो सुपरिमों एवं पूर्व सीएम ओपी चौटाला भिवानी जाट धर्मशाला में जिला कार्यकर्ता सम्मेलन में पहुंचे थे। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया और ओपी चौटाला ने हरियाणा की गठबंधन सरकार के साथ पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा पर निशाना साधा। अपने संबोधन में चौटाला ने कहा कि इनेलो सरकार बनने पर वो हर वर्ग के पढ़े लिखे युवा को सरकारी नौकरी देंगे, चाहे इसको लेकर उन्हें फांसी लग जाए।

चौटाला ने कहा कि नौकरी देने में ये नहीं देखेंगे कि किया ने वोट दिया था और किसने नहीं। तो वहीं, मीडिया से रूबरू हुये ओपी चौटाला ने उनके जेल जाने के लिए पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा द्वारा जो अपना बचाव वाला बयान दिया है वो झुठ है. चौटाला ने शायराना अंदाज में कहा कि मारने वाले के सिंग पकड़ लें पर, झुठ बोलने वाले का का करें।

इसके साथ ही उन्होंने हरियाणा के सीएम मनोहरलाल द्वारा गठबंधन को पति-पत्नी का गठबंधन बताने को वाहियात बताया और पूछा की खट्टर ये भी बता दें कि पति कौन है और पत्नी कौन। इसके साथ ही गुजरात के सीएम बदले जाने के बाद हरियाणा के सीएम बदले जाने की चर्चाओं पर ओपी चौटाला ने कहा कि हरियाणा के सीएम को बदल दें तो क्लेश कट जा पर बदले कौन।

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व का तो दिवालिया पिट चुका है। वहीं हरियाणा में जमीन अधिग्रहण के नए कानून को चौटाला ने किसानों के लिए खतरनाक बताया। आपको बता दें कि ओपी चौटाला दस साल की सजा काटकर एकाएक राजनीति में सक्रिय हो गए हैं। हरियाणा के साथ देश की राजनीति में बदलाव के सिए तीसरे मोर्चे की तलाश कर रहे हैं।

साथ ही हरियाणा के सीएम व पूर्व सीएम पर मुंह जुबानी हमला कर रहे है। ऐसे में देखना होगा कि भाजपा व कांग्रेस इसे कैसे देखतें हैं और क्या चौटाला अपनी चौधरी की सियासी जंग की पारी कितनी जीत पाते हैं।