रोहतक वालों के लिए मुसीबत बना रेलवे एलिवेटेड ट्रैक, पानी भरने से आईं घरों में दरारें

रोहतक वालों के लिए मुसीबत बना रेलवे एलिवेटेड ट्रैक, पानी भरने से आईं घरों में दरारें

रोहतक वालों के लिए मुसीबत बना रेलवे एलिवेटेड ट्रैक, पानी भरने से आईं घरों में दरारें

रोहतक। रेलवे एलिवेटेड ट्रैक बनने से हो सकता है आने वाले समय में लोगों को जाम से मुक्ति मिल जाये लेकिन इस के निर्माण के चलते शहर वासी कई कालोनियों के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। हालात यह हैं कि वार्ड-8 स्थित कबीर कालोनी में एलिवेटेड ट्रैक के निर्माण के लिए मिट्टी उठवा ली गई। अब स्थानीय लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, यहां करीब पांच से आठ फीट तक जलजमाव है। दूसरी बार बरसात में ऐसे हालात हैं कि जल निकासी के इंतजाम नहीं हो रहे। रेलवे के अधिकारी कहते हैं कि हमारे पास संसाधन नहीं। नगर निगम के अधिकारी रेलवे का प्रोजेक्ट बताते हुए पल्ला झाड़ रहे हैं। स्थानीय लोगों ने चेतावनी दी है कि तीन दिन के अंदर कोई समाधान नहीं हुआ तो प्रदर्शन करने के लिए विवश होंगे।

शीलाबाईपास चौक के निकट जसबीर कालोनी के पास कबीर कालोनी में बरसात के बाद नई समस्या खड़ी हो गई। स्थानीय लोगों का दावा है कि यहां जलजमाव के कारण बलजीत की दीवार और गेट गिर गया। पांच-सात लोगों के घरों में दरारें आ गई हैं। स्थानीय निवासी बता रहे हैं कि बच्चों को डर के कारण घर से बाहर नहीं भेज रहे। यदि कोई हादसा हो गया तो कौन जिम्मेदार होगा। क्योंकि यहां जल जमाव आठ फीट तक है। इसलिए गलती से भी इधर कोई बच्चा चला गया तो हादसा होने से कोई नहीं रोक सकता। यह भी बताया कि साइट की मिट्टी उठाई थी और यहां जलजमाव हो जाता है। पहले बरसात हुई थी तब भी जल जमाव हो गया था।

वार्ड-8 के पार्षद सोनू ने बताया कि कुछ घरों में दरारें आई हैं। एक घर की दीवार और गेट गिर गया। लोग दो दिनों से लगातार नगर निगम और रेलवे के अधिकारियों के संपर्क में हैं। मैंने भी शिकायत की है। फिर भी रेलवे के अधिकारी कहते हैं कि रेलवे एलिवेटेड ट्रैक के निर्माण का कार्य पूरा हो गया है। इस वजह से जल निकासी के लिए हमारे पास कोई संसाधन नहीं है। नगर निगम के आयुक्त से लेकर दूसरे सभी अधिकारियों से संपर्क कर लिया। वह यही कहते हैं कि हमारा कार्यक्षेत्र नहीं है। इसलिए हम यहां कार्य नहीं करा सकते हैं। पार्षद सोनू कहते हैं कि सोमवार या फिर मंगलवार को मैं सभी कालोनी वालों को साथ लेकर जाऊंगा। जिला उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार से मिलेंगे। फिर भी सुनवाई नहीं होगी तो हम प्रदर्शन के लिए मजबूर होंगे। यह भी चेतावनी दी है कि सुनवाई नहीं हुई तो आंदोलन के लिए विवश होंगे।