सोनीपत के निजी स्कूल की छत गिरी, बच्चों समेत कई लोग मलबे में दबे

सोनीपत के निजी स्कूल की छत गिरी, बच्चों समेत कई लोग मलबे में दबे

सोनीपत के निजी स्कूल की छत गिरी, बच्चों समेत कई लोग मलबे में दबे

रोहतक। ह‌रियाणा में कई जिलों में मानसून के आखिरी दौर में बारिश हो रही है। इसी के चलते आज सुबह दर्दनाक हादसा हो गया। सोनीपत जिले में गन्नौर तहसील के गांव बाय में गुरुवार सुबह एक निजी स्कूल की छत गिर गई। स्कूल का नाम  जीवानंद मॉडल पब्लिक स्कूल है जिसकी छत गिरी है। हादसे में तीसरी व चौथी कक्षा के बच्चे, अध्यापक व छत पर मिट्टी डाल रहे मजदूर दब गए। बच्चाें समेत 35 लोग मलबे के नीचे दब गए थे। वहीं हादसे के बाद स्कूल में चीख पुखार मच गई। हादसे की जानकारी मिलते ही ग्रामीण मौके पर पहुंचे। पुलिस को भी सूचना दी गई।

स्कूल प्रबंधक व अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और बचाव कार्य शुरू किया। लोगों की सहायता से मलबे के नीचे दबे बच्चों समेत सभी लोगों को निकाला गया। आनन-फानन में उन्हें नजदीकी सरकारी अस्पताल में ले जाया गया। सरकारी अस्पताल में 28 से ज्यादा लोगों की एंट्री हुई है, जबकि 7 को गंभीर हालत देखते हुए निजी अस्पताल ले जाया गया है। वहीं सोनीपत के जिला शिक्षा अधिकारियों ने हादसे की रिपोर्ट तलब की है।

बताया जा रहा है कि स्कूल की छत कच्ची थी। 2 दिन हुई तेज बारिश के कारण वह काफी जर्जर हो चुकी थी। इसके चलते स्कूल प्रशासन छत पर मिट्टी डलवाने का काम करवा रहा था। जैसे ही मजदूरों ने मिट्टी डालनी शुरू करी, वह नीचे गिर गई।

मिली जानकारी के अनुसार, सुबह 11 बजे स्कूल के हॉल रूम की छत पर मजदूर मिट्टी डालने का काम कर रहे थे। स्कूल के इसी हॉल में तीसरी व चौथी कक्षा के बच्चे पढ़ते हैं। बच्चे स्कूल के प्रागंण में पेपर दे र‌हे ‌थे। पेपर खत्म हो जाने के बाद बच्चे कक्षा में अपना बैग उठाने के लिए गए। क्लास रूम में अध्यापक भी थे। इसी दौरान अचानक छत गिर गई और बच्चे, अध्यापक व मजदूर दब गए। अचानक से छत गिरने से जोर का धमाका हुआ, जिसे सुनकर ग्रामीणों सहित अन्य लोग पहुंचे व तत्काल बचाव कार्य शुरू किया।

बच्चों को किसी तरह मलबे के नीचे से निकाला गया। उन्हें स्कूल बस से तुरंत सरकारी अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में भी बच्चों की रोने की आवाजें गूंजती रही। 25 से ज्यादा बच्चों के सिर में गंभीर चोटें आई हैं। सूचना मिलते ही बच्चों के माता-पिता भी पहले स्कूल व फिर अस्पताल गए। लगभग सभी घायल बच्चों के सिर पर टांके लगे हैं। वहीं मजदूर और अध्यापकों को भी गंभीर चोटें आई हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए सीएमओ भी तत्काल अस्पताल पहुंचे और स्टाफ को घायलों का बेहतर इलाज करने के बारे में दिशा निर्देश दिए।


हादसे के बाद स्कूल की छुट्टी कर दी गई है। स्कूल में पढ़ रहे अन्य सभी बच्चों को स्कूल की ही बस से घर छुड़वाया गया। सा‌थ ही सभी बच्चों के अभिभावकों को मैसेज करके हादसे के बारे में सूचित भी किया गया।