जीत की ख़ुशी में लगा खून का दाग, हर्ष फायरिंग के दौरान गोली लगने से बच्चे की मौत

जीत की ख़ुशी में लगा खून का दाग, हर्ष फायरिंग के दौरान गोली लगने से बच्चे की मौत

जीत की ख़ुशी में लगा खून का दाग, हर्ष फायरिंग के दौरान गोली लगने से बच्चे की मौत

गया। हर्ष फायरिंग के चलते लोगों की जान भी जा सकती है। हालांकि इस माहौल में अक्सर हादसे हो ही जाते है। बता दें कि लोग अपनी जीत में इस कदर मगशूल हो जाए है कि उन्हें किसी की जान की परवाह रह ही नहीं जाती है। दरअसल एक दिल को झकझोर देने वाली खबर सामने आई है। बता दें कि मुखिया जी के विजय जुलूस ने हर्ष फायरिंग के दौरान एक बच्चे की गोली लगने से मौत हो गई है। बिहार के गया में उस वक्त हड़कंप मच गया, जब पंचायत चुनाव के दौरान हर्ष फायरिंग की घटना में एक बच्चे की मौत हो गई। 

मुखिया पद के चुनाव  में जीत के बाद मुखिया द्वारा निकाले गए विजय जुलूस में गोली लगने से इस बच्चे की मौत हुई। गोरेलाल पांडेय के बड़े पुत्र 14 वर्षीय ऋतिक कुमार को गोली लगते ही मौके पर अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया। घटना के बाद आरोप-प्रत्यारोप भी शुरू हुआ। ग्रामीणों की मानें तो नशे में धुत रहे एक युवक ने फायरिंग की, जिसकी गोली बच्चे को लग गई। बाद में ये भी आरोप लगा कि मुखिया के विरोधी गुट के लोगों ने जुलूस में फायरिंग की है, जिससे यह घटना हुई। हालांकि इस आरोप की जांच की जा रही है।

 पुलिस के मुताबिक, दरियापुर पंचायत के नवनिर्वाचित मुखिया नरेश पंडित द्वारा दूसरी बार चुनाव जीतने के बाद पंचायत के सभी गांव में जुलूस की शक्ल में पहुंचकर लोगों से मिलकर आशीर्वाद लिया जा रहा था। इस दौरान मालती गांव में मुखिया का विजय जुलूस पहुंचा जहां गोली चलने की आवाज हुई। जब तक लोग कुछ समझ पाते तब तक उसी जुलूस में शामिल एक बच्चे के पेट में गोली लग गई, जिससे उसकी अस्पताल ले जाने के दौरान मौत हो गई। 14 साल के बच्चे का नाम ऋतिक कुमार है जिसकी मौत अस्पताल ले जाने के दौरान हो गयी। ये घटना जिले के अतरी थाना क्षेत्र के मोहड़ा प्रखंड इलाके के दरियापुर पंचायत अंतर्गत मालती गांव में हुई। फिलहाल बच्चे के परिजन के द्वारा अभी तक किसी के विरुद्ध मामला दर्ज नहीं कराया गया है,वही पुलिस जांच में जुट गई है।