Cat cow pose: मार्जरीआसन या चक्रवकासन के 8 स्वास्थ्य लाभ जानकर रह जाएंगे हैरान

  1. Home
  2. VIRAL NEWS

Cat cow pose: मार्जरीआसन या चक्रवकासन के 8 स्वास्थ्य लाभ जानकर रह जाएंगे हैरान

Cat cow pose: मार्जरीआसन या चक्रवकासन के 8 स्वास्थ्य लाभ जानकर रह जाएंगे हैरान

योग एक समग्र अभ्यास है जिसमें कई योग आसन शामिल हैं जो कई तरीकों से मदद करते हैं। आपके शरीर को आराम देने वाले सबसे अच्छे योग आसनों में से एक है कैट काउ पोज़। यह दो मुद्राओं का मिश्रण है: बिल्ली मुद्रा (मार्जरीआसन) और गाय मुद्रा (बिटिलासन)। जब एक साथ अभ्यास किया जाता है,


Cat cow pose: योग एक समग्र अभ्यास है जिसमें कई योग आसन शामिल हैं जो कई तरीकों से मदद करते हैं। आपके शरीर को आराम देने वाले सबसे अच्छे योग आसनों में से एक है कैट काउ पोज़। यह दो मुद्राओं का मिश्रण है: बिल्ली मुद्रा (मार्जरीआसन) और गाय मुद्रा (बिटिलासन)। जब एक साथ अभ्यास किया जाता है, तो ये आसन आपके शरीर को फैलाने में मदद करते हैं और वार्म-अप व्यायाम की तरह काम करते हैं जो आपको अन्य गतिविधियों के लिए तैयार होने में मदद करता है। हिंदी में चक्रवाकासन के नाम से मशहूर इस योग मुद्रा में सांस लेना और छोड़ना शामिल है, जो इसे सबसे सरल और सबसे प्रभावी योग आसनों में से एक बनाता है। लेकिन यही एकमात्र कारण नहीं है कि आपको यह आसन क्यों करना चाहिए। बिल्ली-गाय आसन के कई स्वास्थ्य लाभ हैं जो आपको अवश्य जानना चाहिए।

बिल्ली-गाय आसन के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं?
मार्जरीआसन, जिसे कैट-काउ पोज़ के रूप में भी जाना जाता है, एक मौलिक योग मुद्रा है जिसमें रीढ़ की हड्डी के लचीलेपन और समग्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए दो स्थितियों के बीच लयबद्ध प्रवाह शामिल होता है। योग विशेषज्ञ हिमालयन सिद्ध अक्षर बताते हैं कि यह एक सरल लेकिन प्रभावी योग क्रम है जो लचीलेपन और रीढ़ की हड्डी के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

फ्रोज़न शोल्डर के लिए सर्वश्रेष्ठ योगासन
फ्रोज़न शोल्डर से राहत पाने के लिए ये योगासन आज़माएं। छवि सौजन्य: एडोब स्टॉक
1. लचीलेपन में सुधार करता है
बिल्ली-गाय मुद्रा को नियमित रूप से करने से रीढ़ की हड्डी को धीरे-धीरे मोड़ने और खींचने से पीठ की पूरी लंबाई में लचीलेपन और गतिशीलता को बढ़ावा मिलेगा।


2. बेहतर मुद्रा
यदि आप अपने आसन को बेहतर बनाने के तरीके खोज रहे हैं, तो यह योग आसन आपके लिए एकदम सही है। पीठ का निरंतर और बारी-बारी से झुकना और मुड़ना आपकी रीढ़ को सहारा देने वाली मांसपेशियों को मजबूत करके मुद्रा को बेहतर बनाने में मदद करता है।

3. तनाव से राहत मिलती है
क्या आप हाल ही में तनाव महसूस कर रहे हैं? कैट काउ पोज़ में लयबद्ध साँस लेना और हल्की हरकतें शामिल हैं जो तनाव को कम करने और मन को शांत करने में मदद कर सकती हैं।

4. समन्वय बढ़ाता है
यह मुद्रा सांस और गति के समन्वय को प्रोत्साहित करती है, दिमागीपन और शरीर की जागरूकता की भावना को बढ़ावा देती है।

5. पेट के अंगों को उत्तेजित करता है
कैट-काउ पोज़ में पेट क्षेत्र को हल्का दबाने और छोड़ने से अंगों को उत्तेजित और मालिश किया जा सकता है, जिससे पाचन में सहायता मिलती है।

6. वार्म-अप
यह रीढ़ की हड्डी के लिए एक उत्कृष्ट वार्म-अप आसन है जिसे आप अधिक गहन योग मुद्राओं या शारीरिक गतिविधियों में शामिल होने से पहले कर सकते हैं।


7. पीठ दर्द को कम करता है
क्या आप गंभीर पीठ दर्द से पीड़ित हैं? खैर, यह मुद्रा मदद कर सकती है। बिल्ली-गाय मुद्रा का नियमित अभ्यास लचीलेपन को बढ़ावा देने और रीढ़ की मांसपेशियों में तनाव से राहत देकर मामूली पीठ दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।


8. तंत्रिका तंत्र को संतुलित करता है
इस मुद्रा में नियंत्रित श्वास और ध्यानपूर्ण गति संतुलन में मदद करती है
अक्षर कहते हैं, स्वायत्त तंत्रिका तंत्र आराम की भावना को बढ़ावा देता है।


कैट काउ पोज़ को सही तरीके से कैसे करें?
अब जब आप कैट-काउ पोज़ के लाभों को जानते हैं, तो आइए एक विशेषज्ञ से कैट-काउ पोज़ को सही तरीके से करने के तरीके के बारे में चरण-दर-चरण जानकारी साझा करें:

चरण 1: टेबलटॉप स्थिति में अपनी कलाइयों को सीधे अपने कंधों के नीचे और अपने घुटनों को अपने कूल्हों के नीचे रखकर शुरुआत करें।
चरण 2: अपनी पीठ को झुकाते हुए श्वास लें और अपने पेट को चटाई की ओर झुकाएँ।
चरण 3: अपने सिर और टेलबोन को छत की ओर उठाएं, जिससे आपकी रीढ़ की हड्डी में एक हल्का मोड़ बन जाए। सुनिश्चित करें कि आपके कंधे आपके कानों से दूर हों और आपकी निगाहें आगे की ओर हों।
चरण 4: अब, अपनी ठुड्डी को अपनी छाती से सटाएं और अपनी सांस छोड़ते हुए अपनी रीढ़ को मोड़ें। अपने पेट की मांसपेशियों का उपयोग करते हुए, अपनी नाभि को अपनी रीढ़ की ओर अंदर की ओर खींचें। अपनी पीठ पर और अपने कंधे के ब्लेड के बीच खिंचाव महसूस करें।
चरण 5: गाय और बिल्ली की मुद्रा के बीच प्रवाहित गति से आगे बढ़ना जारी रखें।
चरण 6: इस क्रम को लगभग 10-15 सांस चक्रों तक या अपनी सुविधा के अनुसार दोहराएं।


चाहे आप आराम करना चाहते हों या अपनी रीढ़ को स्वस्थ और लचीला रखना चाहते हों, बिल्ली-गाय मुद्रा को अपनी योग दिनचर्या में शामिल करने का प्रयास करें। इस योग मुद्रा का लाभ उठाने के लिए सहज, नियंत्रित गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करना और अपनी सांसों को समकालिक करना महत्वपूर्ण है।

Around The Web

Uttar Pradesh

National