Uttarakashi Rescue Operation: फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने का ऑपरेशन आखिरी पड़ाव में, जानिए उन रैट माइनर्स के बारे में कर रहे है ये ड्रिल

  1. Home
  2. VIRAL NEWS

Uttarakashi Rescue Operation: फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने का ऑपरेशन आखिरी पड़ाव में, जानिए उन रैट माइनर्स के बारे में कर रहे है ये ड्रिल

Uttarakashi Rescue Operation:  फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने का ऑपरेशन आखिरी पड़ाव में, जानिए उन रैट माइनर्स के बारे में कर रहे है ये ड्रिल 

उत्तराखंड की सिल्क्यारा-डंडालगांव टनल में 12 नवंबर से फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने की कोशिशें आखिरी पड़ाव पर हैं। सिलक्यारा साइड से हॉरिजॉन्टल ड्रिलिंग में लगे रैट माइनर्स ने करीब 55 मीटर की ड्रिलिंग पूरी कर ली है। शाम तक मजदूरों को टनल के अंदर से निकाला जा सकता है।


Uttarakashi Rescue Operation: उत्तराखंड की सिल्क्यारा-डंडालगांव टनल में 12 नवंबर से फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने की कोशिशें आखिरी पड़ाव पर हैं। सिलक्यारा साइड से हॉरिजॉन्टल ड्रिलिंग में लगे रैट माइनर्स ने करीब 55 मीटर की ड्रिलिंग पूरी कर ली है। शाम तक मजदूरों को टनल के अंदर से निकाला जा सकता है।

टनल के अंदर फंसे मजदूरों के परिजनों से अधिकारियों ने कहा है कि उनके कपड़े और बैग तैयार रखिए। जल्द ही अच्छी खबर आने वाली है। इधर, मजदूरों को टनल से बाहर निकालने के बाद फौरन उन्हें चिन्यालीसौड़ अस्पताल ले जाया जाएगा। इसके लिए मौके पर एंबुलेंस तैनात हैं। इनके लिए कॉरिडोर तैयार किया जा रहा है।

क्या होते हैं रैट माइनर्स

रैट यानी चूहा। पतले से पैसेज में अंदर जाकर ड्रिल करने वाले मजदूरों को रैट माइनर्स कहते हैं। इस तरह से ड्रिल करने के किए स्पेशल ट्रेनिंग, स्किल और काफी प्रैक्टिस की जरूरत होती है। ये रैट माइनर्स 800mm के पाइप में घुसकर ड्रिल कर रहे हैं।

टनल एक्सपर्ट्स बोले- पहाड़ ने हमें विनम्र रहना सिखाया

इंटरनेशनल टनल एक्सपर्ट्स अर्नोल्ड डिक्स ने मंगलवार को रेस्क्यू ऑपरेशन को लेकर कहा- हम पहले भी पॉजिटिव थे, और आज भी पॉजिटिव हैं। आज वो पहला दिन है, जब मुझे अच्छा लग रहा है। पहाड़ की चोटी पर ड्रिलिंग जारी है। टनल में वह अच्छे से काम कर रहा है।

डिक्स ने दैनिक भास्कर से बताचीत में कहा- पहाड़ ने हमें एक बात बताई है, वह है विनम्र बने रहना। 41 आदमी, घर सुरक्षित और फिर आप सबसे असाधारण चीज की रिपोर्ट करेंगे। डिक्स का इशारा ऑपरेशन के सफलतापूवर्क अंतिम चरण पर पहुंचने की ओर था।

PM मोदी ने रेस्क्यू ऑपरेशन की जानकारी ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड के CM पुष्कर सिंह धामी को फोनकर रेस्क्यू ऑपरेशन की अपडेट ली है। उन्होंने कहा कि अंदर फंसे श्रमिकों की सुरक्षा के साथ-साथ बाहर राहत कार्य में लगे लोगों की सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि अंदर फंसे श्रमिकों के परिवारों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए।

टनल के अंदर फंसे 41 मजदूरों पर नजर रखने के लिए रोबोटिक्स की मदद ली जा रही है। इसके लिए लखनऊ से AI एंड रोबोटिक्स डेवलपर मिलिंद राज को बुलाया गया है। मिलिंद ने बताया- हम तीन बड़े काम करेंगे। एक- मजदूरों के बिहेवियर और उनकी हेल्थ को 24X7 मॉनिटर करेंगे। टनल के अंदर फंसे मजदूरों की हताशा की स्थिति को डिटेक्ट करेंगे। दूसरा- टनल के अंदर अगर कोई गैस निकल रही है तो उसे डिटेक्ट करेंगे। तीसरा- टनल के अंदर जहां नेटवर्क भी ठीक से नहीं मिल पा रहा है, वहां हम हाईस्पीड इंटरनेट सिस्टम देंगे।

Around The Web

Uttar Pradesh

National