ड्रेन आठ में कम हुआ पानी का स्तर, किसानों ने ली राहत की सांस

ड्रेन आठ में कम हुआ पानी का स्तर, किसानों ने ली राहत की सांस

ड्रेन आठ में कम हुआ पानी का स्तर, किसानों ने ली राहत की सांस

गोहाना:
 सिंचाई विभाग ने जेएलएन नहर, भालौठ सब ब्रांच और अंटा हेड से पानी रोक देने से ड्रेन आठ में पानी का स्तर कम हो गया है। किसानों के खेतों में फसलों में भरा पानी वापस ड्रेन में आने लगा है। एक दिन में ही खेतों से पानी की निकासी शुरू हो जाने से किसानों ने राहत की सांस ली है। वहीं सिंचाई विभाग ने नीचे खेतों से भी पानी की निकासी की तैयारी शुरू कर दी है।
 दक्षिण हरियाणा के जिलों में अधिक बारिश होने के चलते बुधवार को जेएलएन नहर और भालौठ ब्रांच से करीब दो हजार क्यूसिक पानी गोहाना में ड्रेन आठ में छोड़ दिया गया था। इसके अलावा सफीदों में अंटा हेड व दूसरी जगह से भी ड्रेन आठ में करीब 23 सौ क्यूसिक पानी छोड़ा गया था। ड्रेन आठ की क्षमता करीब चार हजार क्यूसिक की है। ड्रेन आठ में क्षमता से 300 क्यूसिक अधिक पानी छोड़ दिया गया था। इससे ड्रेन आठ में आकर मिलने वाली लिंक ड्रेन तीन और डायवर्शन ड्रेन आठ की पटरियों से पानी ओवरफ्लो होकर खेतों में भर गया था। अलग-अलग जगह करीब 280 एकड़ में फसलें जलमग्न हो गई थीं। सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने जेएलएन नहर और भालौठ ब्रांच का पानी ड्रेन आठ में आने से रोक दिया है। वहीं सफीदों में अंटा हेड से भी पानी को ड्रेन आठ में आने से रोका गया। इससे ड्रेन आठ में पानी का स्तर कम हो गया। बृहस्पतिवार को ड्रेन में करीब पानी का स्तर करीब चार फुट तक कम हो गया है। इससे खेतों में भरा पानी वापस लिंक ड्रेनों में आने लगा है।
अब स्थिति नियंत्रण में है। ड्रेन आठ में कहीं से पानी नहीं आ रहा है। खेतों में भरा पानी भी वापस ड्रेनों में आ रहा है। अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। जिस क्षेत्र में पानी की निकासी पूरी तरह से हो गई है वहां पटरियों की मरम्मत शुरू कर दी गई है।