गांव धनाना में सैकड़ों एकड़ भूमि में दोबारा भरा पानी

गांव धनाना में सैकड़ों एकड़ भूमि में दोबारा भरा पानी
गांव धनाना में सैकड़ों एकड़ भूमि में दोबारा भरा पानी
क्षेत्र में रूक-रूक कर हो रही बारिश से गांव के खेतों में करीब 400 एकड़ में दो से तीन फीट पानी भरा
किसान चिंतित: पानी से पहले धान की फसल खराब हुई, अब गेहूं की बिजाई न होने की चिंता
ग्रामीणों ने प्रशासन से 24 घंटे बिजली सप्लाई देने की मांग की है
गोहाना
क्षेत्र में पिछले कई दिन से रूक-रूक कर हो रही बारिश से गांव धनाना में दोबारा से सैकड़ों एकड़ भूमि में जलभराव हो गया है। गांव के खेतों में जुलाई-अगस्त के महीने में पानी भरने से पहले तो धान की फसल खराब हो गई थी और अब दोबारा से खेतों में पानी भरने पर ग्रामीणों को गेहूं की बिजाई न होने की चिंता सताने लगी है। ग्रामीणों को भय है कि कहीं उन पर दोहरी मार न पड़ जाए। ग्रामीणों ने प्रशासन से 24 घंटे बिजली सप्लाई देने की मांग की है ताकि पंपसेटों से पानी की जल्दी निकासी हो सके।
जुलाई और अगस्त के महीने में क्षेत्र में हुई बारिश के दौरान गांव धनाना में सैकड़ों एकड़ भूमि में कई-कई फीट पानी भर गया था। खेतों में जलभराव से उस दौरान गांव के किसानों की सैकड़ों एकड़ में धान की फसल नष्ट हो गई थी। अब क्षेत्र में पिछले कई दिन से रूक-रूक कर हो रही बारिश से गांव के खेतों में दोबारा से जलभराव हो गया है। ग्रामीण पंडित भैया राम, प्रेम सिंह और जगबीर के अनुसार गांव में करीब 400 एकड़ भूमि में दोबारा से दो से तीन फीट तक पानी भर गया है। ग्रामीणों का कहना है कि गांव के खेतों में पहली बार बारिश का पानी भरने से सैकड़ों एकड़ में धान की फसल नष्ट होने से खेत खाली रह गए। अब खेतों में दोबारा से बारिश का पानी भर गया है। ऐसे में धान की फसल खराब होने की आशंका बनी हुई है। सत्यवान, राजबीर सिंह, पहलवान अनिल और नान्हा का कहना है कि गांव के खेतों में भरे हुए पानी की जल्द निकासी की जरूरत है। अगर पानी की जल्द निकासी नहीं हुई तो खाली रह गए खेतों में गेहूं की बिजाई भी नहीं हो सकेगी। ऐसे में किसानों पर दोहरी मार पडऩे की आशंका बनी हुई है।
24 घंटे बिजली सप्लाई की मांग
ग्रामीणों के अनुसार गांव से रिंढ़ाणा-लाखनमाजरा ड्रेन गुजरती है। इस ड्रेन पर पड़ौसी गांव नांदल में पंपहाउस स्थापित है। इस पंपहाउस में बिजली संचालित 5 पंप लगे हुए हैं। ग्रामीणों के अुनसार इन पंपों की सहायता से ही गांव धनाना के खेतों में भरे पानी की निकासी होती है। ऐसे में खेतों में भरे पानी की जल्द निकासी के लिए 24 घंटे बिजली सप्लाई दी जाए। ग्रामीणों के अनुसार अगर खेतों से पानी की जल्द निकासी नहीं हुई तो किसान गेहूं की बिजाई भी नहीं हो सकेगी।
स्पेशल गिरदावरी की मांग भी की
गांव धनाना के ग्रामीणों ने प्रशासन से फसल खराबे की स्पेशल गिरदावरी करवाकर नुकसान की भरपाई के लिए 50 हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवजा देने की मांग की है। ग्रामीणों के अनुसार बारिश के पानी से धान की फसल खराब होने से किसानों को भारी नुकसान हुआ है।