किसानों के सिर फोड़ने का आदेश देने वाला कौन हैं SDM आयुष सिन्हा, उच्च पदों पर रहा है परिवार

किसानों के सिर फोड़ने का आदेश देने वाला कौन हैं SDM आयुष सिन्हा, उच्च पदों पर रहा है परिवार

हरियाणा के करनाल में किसानों पर लाठीचार्ज की घटना के बाद एसडीएम आयुष सिन्हा के दो वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे हैं। आयुष सिन्हा को हटाने की मांग भी लगातार तेज हो रही है।

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में किसानों के सिर फोड़ने के आदेश देने वाले एसडीएम आयुष सिन्हा के बारे में कुछ जानकारी लेते हैं। उच्च पदों पर परिवार के सदस्य रहे और 2017 बैच के आईएएस अफसर सिन्हा का परिवार हिमाचल प्रदेश में रहता है।
एसडीएम आयुष सिन्हा के व्यवहार को लेकर अब चौतरफा आलोचना हो रही है। वो वीडियो में साफ तौर पर पुलिसकर्मियों को किसानों के सिर फोड़ने के आदेश देते हुए दिखाई दे रहे हैं।

कौन हैं एसडीएम आयुष सिन्हा ?
आयुष सिन्हा 2017 बैच के IAS अफसर हैं, उन्होंने UPSC परीक्षा में सतावीं रैंक हासिल की थी। हालांकि इससे पहले वो दो बार UPSC की परीक्षा दे चुके हैं, लेकिन अच्छी रैंक ना मिलने के कारण तीसरी बार सफलता हासिल की।

आयुष सिन्हा का परिवार हिमाचल प्रदेश के कनलोग में रहता है। इनका जन्म शिमला में हुआ है और स्कूलिंग भी शिमला से ही हुई है। आयुष केमिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट हैं। वह बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, गोवा से ग्रेजुएट हुए हैं। इसके अलावा बायोलॉजिकल साइंस में वह मास्टर भी हैं।

बताया जा रहा है कि एसडीएम आयुष सिन्हा का पूरा परिवार उच्च पदों पर रहा है। इनके दादा एसके सिन्हा बिहार कैडर के आईएएस अफसर रहे हैं, वहीं पिता प्रदीप सिन्हा एडिशनल प्रिंसिपल चीफ कंजरवेटर के पद से 5 साल पहले रिटायर हुए थे, उनकी करीब दो साल पहले मृत्यु हो गई थी।

आईएएस सिन्हा की मां अलका वर्मा शिमला के सबसे चर्चित कॉलेज सेंट बीड्स में अर्थशास्त्र की एसोसिएट प्रोफेसर के तौर पर काम कर चुकी हैं। इनकी एक बहन भी है, जो शादीशुदा हैं। इनके एक अंकल अतुल वर्मा हिमाचल में बतौर एडीजीपी के पद पर तैनात हैं। इन दिनों वह डेपुटेशन पर दिल्ली है।

आयुष सिन्हा के पिता प्रदीप कुमार सिन्हा बिहार के पटना के रहने वाले थे, जबकि माता अलका वर्मा झारखंड के धनबाद की हैं। आईएएस के इंटरव्यू में आयुष सिन्हा ने कहा था कि उनकी हॉबी फुटबॉल खेलना और किताबें पढ़ना है।

शिमला से संबंधित जब उनसे सवाल किया गया था तो उन्होंने कहा था कि शिमला में ट्रैफिक की समस्या काफी ज्यादा रहती है। पार्किंग की दिक्कत है, पानी की भी समस्या है और एयर पोल्यूशन भी दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। ऐसे में यहां पर सरकार को टूरिस्टो को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए योजनाएं बनाने की जरूरत है।

अब किसानों पर शनिवार को लाठीचार्ज के बाद वो लगातार सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार हो रहे हैं। सोशल मीडिया के अलावा बड़े बड़े राजनेताओं ने भी आयुष सिन्हा के व्यवहार की आलोचना की है।