किन्नर से लड़की बनी जोया, लोगों को दे देती थी सीक्रेट मौत, हुआ खौफनाक खुलासा

किन्नर से लड़की बनी जोया, लोगों को दे देती थी सीक्रेट मौत, हुआ खौफनाक खुलासा

किन्नर से लड़की बनी जोया, लोगों को दे देती थी सीक्रेट मौत, हुआ खौफनाक खुलासा

इंदौर। ऐशो आराम की जिंदगी हर कोई जीना चाहता है। लेकिन कोई अपनी मेहनत के बल पर तो कोई अपराध और जुर्म का रास्ता अपना कर लक्जरी लाइफ जीना पसंद करता है। और ऐसे लाइफ जीने के लिए ना जाने कितनों की जिंदगी तबाह कर देते हैं। लेकिन इन सब चीजों से उनको कोई फर्क जब तक नहीं पड़ता है जब तक वो कानून की नजरों से बचते रहते है। दरअसल आज हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहने है जिसे पढ़कर आप भी ये सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि ये घटना तो सच्ची है तो फ़िल्मी कहानी क्यों लग रही है। 

बताना लाजमी है कि इस घटना में एक युवक की हत्या कर दी जाती है और उसके दोस्त को पता तक नहीं चलता है। घटना उस दोस्त की आंखों के सामने होती है। दोनों दोस्त एक पार्टी से लौट रहे होते हैं। दोनों नशे में होते हैं। मारने वालों में एक लड़की और कुछ लड़के होते हैं। विवाद की शुरुआत मामूली कहासुनी से होती है। फिर चाकू मार दिया जाता है। वहां से कुछ दूरी पर मौजूद कुछ लोग वीडियो भी बना लेते हैं। इंदौर के बॉम्बे हॉस्पिटल के सामने हुई चाकूबाजी में आरोपी किन्नर जोया ग्लैमरस लाइफस्टाइल जीता है। उसने कई फोटो शूट कराकर सोशल मीडिया पर भी अपलोड किया हुआ है।

 सोशल मीडिया पर ही युवाओं को टारगेट कर उनसे दोस्ती कर ब्लैकमेल करना इसका शौक है। इसके अलावा, ये रईस युवकों को अपने जाल में फंसाता है। साथ ही रात में लड़कों को रिलेशन बनाने का लालच देकर भी लूटपाट कर लेता है। पुलिस की जांच में सवाल उठा कि आखिर जोया कौन है। इसका पता लगाने पर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। दरअसल, देवांशु की हत्या में शामिल और मुख्य आरोपी जोया नया नाम है। इससे पहले उसका नाम अफजल उर्फ इरशाद था। लेकिन बचपन से उसकी हरकतें लड़कियों जैसी थी।

 इसलिए वो किन्नर की तरह वेशभूषा में आने लगा। बताया जाता है कि शुरू में वो खुद को किन्नर बताते हुए ट्रेनों में वसूली किया करता था। लेकिन उसकी पोल खुली तो असली किन्नरों ने उसकी जमकर पिटाई की थी। इसके बाद ही वो शौक की वजह से पैसे जुगाड़ करके साल 2017 में दिल्ली के फरीदाबाद में आया। यहां उसने सेक्स चेंज करा लिया। इसके बाद वो जोया बनकर इंदौर में गैंग चलाने लगा। यहां के आजाद नगर में रहते हुए शाहिद नाइट्रा को उससे प्यार हो गया। इसके बाद दोनों ने शादी रचा ली। 

बताया जाता है कि जोया को पब में जाना पार्टी करना और नशे में डूबे रहना पसंद है। इसके अलावा, डेटिंग साइट और सोशल मीडिया के जरिए हाई-प्रोफाइल लड़कों को अपने जाल में फंसाना और सेक्स के नाम पर पैसे लूटने का भी धंधा है। जोया ने कबूला है कि इस दौरान उसने कई युवकों को लूटा भी था। ये भी बात सामने आई है कि साल 2012 में उसने इंदौर-खंडवा ट्रेन में एक यात्री को लूटने के बाद उसे चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया था। ये मामला पूरी तरह से ब्लाइंड केस की तरह था। मारने वाले कौन थे? क्यों मारा और कैसे मारा। 

ये सबकुछ पता नहीं चल पा रहा था। पोस्टमॉर्टम से पता चला कि देवांशु के शरीर पर जगह-जगह छोटी छूरी से हमले के निशान थे। नशे में होने की वजह से शायद उस समय दोनों को इस बारे में पता नहीं चल पाया लेकिन रात में सोने के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होने की वजह से देवांशु की मौत हो गई। इस आधार पर पुलिस ने घटनास्थल के आसपास जांच पड़ताल की। कई सीसीटीवी फुटेज देखे। उसी दौरान पता चला कि जब ये घटना हुई तब एक शख्स न थोड़ी दूरी से वीडियो बना ली थी। उसी वीडियो को देखने और आवाज सुनने पर पुलिस को बड़ा सुराग मिला। 

पुलिस ने उस वीडियो को कई बार देखा। वीडियो में एक आरोपी आवाज लगा रहा था।  वो बार-बार कह रहा था, जोया चल...जोया चल। वीडियो में फुटेज तो धुंधली थी लिहाजा सुराग के नाम पर पुलिस के पास बस एक ही सुराग था। वो सुराग था एक लड़की का नाम जोया। एक दोस्त घायल हो जाता है। लेकिन दूसरे दोस्त को पता भी नहीं चलता है। जहां घटना हुई वहां से कुछ दूरी पर ही अस्पताल था। लेकिन दोस्त उसे अस्पताल नहीं ले जाता है। बल्कि दो किमी दूर कमरे पर ले जाता है। फिर कमरे में दोनों सो जाते हैं। अगले दिन सुबह सिर्फ एक दोस्त उठता है। 

दूसरा फिर कभी नहीं उठ पाता है। दोस्त देखता है पूरा बिस्तर खून से लाल होता है। चेहरा सूना। सवाल पूछता है लेकिन जवाब नहीं मिलता है। जब मामला पुलिस संज्ञान ने आया तब किसी को इस घटना पर भरोसा ही नहीं हो रहा था। इस घटना में मरने वाले युवक की पहचान देवांशु (34) के रूप में होती है। वो मध्य प्रदेश के इंदौर में एक रियल एस्टेट कंपनी के सेल्स डायरेक्टर थे। देवांशु मूल रूप से रीवा के रहने वाले थे। कुछ महीने पहले ही इनकी शादी हुई थी। फिलहाल, वे बिजनेस के सिलसिले में दोस्त सतीश के साथ थे। 

दोनों ने कुछ दिन पहले ही रियल एस्टेट में एक बड़ी डील की थी। उसी की खुशी में बुधवार यानी 6 अक्टूबर की रात में पार्टी की थी। इनके कई अन्य दोस्त भी पार्टी में थे। तीन दोस्त एक ही बाइक से पार्टी कर लौट रहे थे। एक दोस्त का घर पहले ही आ गया था। इसके बाद दोनों रात करीब साढ़े 12 बजे के बाद इंदौर में लौट रहे थे। बताया जाता है कि सत्य साईं चौराहे और बॉम्बे हॉस्पिटल के बीच पहुंचे थे तभी एक लड़की समेत कुछ लड़कों ने इन्हें रोक लिया। बताया जाता है कि बॉम्बे हॉस्पिटल के पास एक लड़की ने पहले इनसे लिफ्ट मांगी थी। इसे देखकर दोनों ने बाइक रोक ली थी। 

लड़की दोनों को अपने साथ लिफ्ट देकर ले जाने की जिद कर रही थी। लेकिन देवांशु ने लिफ्ट देने से इनकार कर दिया। कहा जा रहा है कि लिफ्ट से मना करने पर वो लड़की देवांशु पर जबरन सेक्स रिलेशन बनाने का दबाव बनाने लगी। इसी बात को लेकर कहासुनी हुई। तभी वहां पर दो तीन और लोग पहुंच गए। इसके बाद भी वो नहीं माने तो इन लोगों ने पिटाई शुरू कर दी। इससे पता चल गया कि लड़की और उसी दौरान आए कुछ लोग सभी मिले हुए हैं। किसी तरह वहां से शोर मचाकर दोनों दोस्त बाइक से निकल गए। 

इसके बाद अपने कमरे पर पहुंचे और सो गए थे। इसके बाद अगली सुबह देवांशु मृत मिले थे। फिर पुलिस ने वीडियो को गौर से देखा तो उसी हुलिये से मिलते-जुलते लड़कियों के बारे में पता लगाया गया। तब जोया नाम की 4 लड़कियों के बारे में जानकारी मिली। इनसे पूछताछ की गई फिर भी सुराग नहीं मिला। इसी बीच, रात में क्राइम करने वाले कुछ संदिग्धों से पूछताछ की गई तब पता चला कि एक जोया नाम की किन्नर है जो अपने कुछ साथियों से मिलकर नए युवकों को टारगेट करती है।

रात में उन्हें रोककर सेक्स संबंध बनाने का दबाव बनाती है और फिर लूटपाट करती है। विरोध करने पर ये मार भी देते हैं। घटना की जांच में पता चला कि किन्नर जोया गैंग ने देवांशु के गले में डेढ़ तोले सोने की चेन को देखकर टारगेट किया था। जैसे ही जोया ने उससे बहस की तभी उसके साथी बदमाश अल्लू, शाहिद नाइट्रा और आलिम भी आ गए थे। किन्रर जोया, आलिम और बदमाश अल्लू ने देवांशु पर छोटे चाकू से कई बार हमले किए थे।